दरूद सलाम

दरूद सलाम

मुहम्मदﷺ  साहब ने दूसरे धर्मों के लोगों को भी आमंत्रित किया, क्योंकि वो कोई नया धर्म नहीं बना रहे थे। वो तो सभी को एक ही आस्था में शामिल होने के लिए आवाज़ दे रहे थे। वो धार्मिक दूरियों को तोड़ना चाहते थे। अगर ऐसा हो गया होता तो आज नफ़रत की जगह सिर्फ मुहब्बत होती।...
पैगम्बर मुहम्मद ﷺ और फ़क़ीरी -Prophet Muhammad And Faqiri2

पैगम्बर मुहम्मद ﷺ और फ़क़ीरी -Prophet Muhammad And Faqiri2

पैगम्बर मुहम्मद ﷺ और फ़क़ीरी -Prophet Muhammad And Faqiri पैगम्बर मुहम्मद ﷺ और फ़क़ीरी – अगर आप लगन की अद्भूत शक्ति का अध्ययन करना चाहते हैं तो हज़रत मुहम्मद ﷺ  की जीवनी पढ़ें (नेपोलियन हील, थींक ग्रो एण्ड रिच)   अगर मुहम्मद ﷺ  न होते तो धर्म, मठों और जंगलों में...