जो ख़ुदा की हमनशीनी इख्तियार करना चाहता है, तो उसे कह दो कि वो सूफियों के पास बैठे।

(हज़रत मौलाना जलालुद्दीन रूमी र.अ.)