सूफ़ी, सूरज की तरह रौशन होते हैं और सारी दुनिया को रौशन करते हैं।

(ख्‍़वाजा ग़रीबनवाज़ र.अ.)