मुरीद होना (बैअ़त होना)

मुरीद होना (बैअ़त होना)

चूं तू करदी ज़ात मुर्शिद रा क़ुबूल हम ख़ुदा आमद ज़ ज़ातिश हम रसूल नफ़्स नतवां कश्त इल्ला ज़ाते पीर दामने आं नफ़्स कुश महकम बगीर (मौलाना जलालुद्दीन रूमीؓ)   जब तूने पीर की ज़ात को कुबूल कर लिया तो तुझ से अल्लाह भी मिल गया और रसूलﷺ  भी। उस नाफ़रमान नफ़्स को पीर की ज़ात के...
मुरीद का मतलब क्‍या?

मुरीद का मतलब क्‍या?

मीम मुर्शिद से मिला, हमको मुहब्बत का सबक़, रे से राहत मिली, और रहे हमारे मुतलक, शीन से शिर्क़ हुआ दूर दिल से, दाल से दस्त मिला और मिला दिल दिल से। हज़रत मुहम्मद ﷺ को देखकर जो ईमान लाए उसे सहाबी कहते हैं। सहाबी के मायने होते हैं ”शरफे सहाबियत” यानि सोहबत हासिल...