Ramadan Daily Dua

Ramadan Daily Dua

RAMADAN DUA DAY 1 रमज़ान की दुआ - दिन 1 رمضان کی دعا ۔ دن ۱ اَللّـهُمَّ اجْعَلْ صِيامي فيهِ صِيامَ الصّائِمينَ، وَقِيامي فيهِ قيامَ الْقائِمينَ، وَنَبِّهْني فيهِ عَنْ نَوْمَةِ الْغافِلينَ، وَهَبْ لى جُرْمي فيهِ يا اِلـهَ الْعالَمينَ، وَاعْفُ عَنّي يا عافِياً عَنْ الْمجْرِمينَ اے معبود! میرا آج کا روزہ حقیقی روزے داروں جیسا قرار [...]
Ramadan ke Gunahgar

Ramadan ke Gunahgar

रमज़ान का गुनाहगार   रमज़ान में अ़लल ए’लान खाने की दुनियावी सज़ा : रमज़ानुल मुबारक की ता’जीम के सबब एक आतश परस्त को अल्लाह ने न सि़र्फ़ दौलते ईमान से नवाज़ दिया बल्कि उस को जन्नत की ला ज़वाल ने’मतों से भी मालामाल फ़रमा दिया। इस वाकि़ए़ से खु़स़ूस़न हमारे उन ग़ाफि़ल इस्लामी भाइयों को [...]
Ramzan me Shaitan Qaid ho jata hai

Ramzan me Shaitan Qaid ho jata hai

रमज़ान में शैतान कैद कर दिया जाता है   माहे रमज़ान तो क्या आता है रह़मत व जन्नत के दरवाजे़ खुल जाते, दोज़ख़ को ताले पड़ जाते और शयात़ीन क़ैद कर लिये जाते हैं। चुनान्चे ह़ज़रते सय्यिदुना अबू हुरैरा रजि फ़रमाते हैं कि हुज़ूरे अकरमﷺ अपने स़ह़ाबए किराम को ख़ुश ख़बरी सुनाते हुए इर्शाद फ़रमाते [...]
Ramzan ki Fazilat in hindi

Ramzan ki Fazilat in hindi

रमज़ान की फ़ज़ीलत   हज़ार गुना स़वाब : माहे रमज़ानुल मुबारक में नेकियों का अज्र बहुत बढ़ जाता है लिहाज़ा कोशिश कर के ज्‍़यादा से ज्‍़यादा नेकियां इस माह में जमा कर लेनी चाहियें। चुनान्चे ह़ज़रते सय्यिदुना इब्राहीम नख़्इ़र् फ़रमाते हैं: माहे रमज़ान में एक दिन का रोज़ा रखना एक हज़ार दिन के रोज़ों से [...]
Ramadan me Sunnate Nabavi in Hindi

Ramadan me Sunnate Nabavi in Hindi

रमज़ान में सुन्‍नते नबवी आक़ा इ़बादत पर कमर बस्ता हो जाते : माहे रमज़ान में हमें अल्लाह की खू़ब खू़ब इ़बादत करनी चाहिये और हर वो काम करना चाहिये जिस में अल्लाह और उस के मह़बूब, दानाए गु़यूब, मुनज़्ज़हुन अ़निल उ़यूबﷺ की रज़ा हो। अगर इस पाकीज़ा महीने में भी कोई अपनी बखि़्शश न करवा [...]
Ramzan me kya karein

Ramzan me kya karein

रमज़ान में क्‍या करें ?   जन्‍नत सजाई जाती है रमज़ानुल मुबारक के इस्तिक़्बाल के लिये सारा साल जन्नत को सजाया जाता है। चुनान्चे ह़ज़रते सय्यिदुना अ़ब्दुल्लाह इब्ने उ़मर रजि से रिवायत है कि हुज़ूरे अकरमﷺ फरमाते हैं, “बेशक जन्नत इब्तिदाई साल से आइन्दा साल तक रमज़ानुल मुबारक के लिये सजाई जाती है और फ़रमाया [...]